Kisan Credit Card: इन किसानो को मिलेगा फायेदा, अब नहीं लगाने पड़ेंगे बैंको के चक्कर , सिर्फ घर बैठे ऐसे होगा काम

इन किसानो को मिलेगा फायेदा– यह सर्वविदित है कि किसान क्रेडिट कार्ड के किसानों के लिए कई लाभ हैं। यह खबर उन दोनों किसानों के लिए है जो किसान क्रेडिट कार्ड के लाभों को जानते हैं और जो नहीं जानते हैं। इस देश के किसान इस कार्ड से बहुत कम ब्याज दरों पर कर्ज ले सकते हैं। इसके और भी कई फायदे हैं। जिन किसानों के यूनियन बैंक ऑफ इंडिया या फेडरल बैंक में बैंक खाते हैं, वे इस खबर को पढ़कर प्रसन्न होंगे।

दोनों बैंकों द्वारा एक पायलट प्रोजेक्ट शुरू किया गया था, और इस परियोजना के तहत, केसीसी (किसान क्रेडिट कार्ड) अब किसानों को डिजिटल रूप से जारी किया जा रहा है। बैंकों ने कृषि भूमि के दस्तावेजों को बैंक शाखाओं में सत्यापित करने की आवश्यकता से छुटकारा पाने की घोषणा की है।

सरकार ने किया बड़ा ऐलान अब इन किसानो को नहीं मिलेंगे 12 वीं किश्त के 2 हजार रूपये, जानिये क्यों

ऐसी और जानकारी सबसे पहले पाने के लिए हमसे जुड़े
WhatsApp Group Join Now
Telegram Group Join Now

पायलट प्रोजेक्ट क्या हैं

पायलट प्रोजेक्ट में, भारतीय रिजर्व बैंक ने ग्रामीण क्षेत्रों में बैंकों को डिजिटाइज़ करने के लिए एक पायलट प्रोजेक्ट शुरू किया है। यूनियन बैंक ऑफ इंडिया ने मध्य प्रदेश के हरदा जिले में एक पायलट प्रोजेक्ट शुरू किया है। यूनियन बैंक के एक अधिकारी का कहना है कि यह योजना जल्द ही पूरे देश में लागू की जाएगी। फेडरल बैंक ने भी चेन्नई में इस कार्यक्रम की शुरुआत की है।

इससे क्या लाभ होगा

इसका पूरा लाभ किसान उठा सकेंगे। सरकार पहले ही कह चुकी है कि किसानों को बदलती तकनीक के साथ आगे बढ़ना होगा। पायलट प्रोजेक्ट के तहत अब घर बैठे मोबाइल फोन से किसान क्रेडिट कार्ड (केसीसी) के लिए आवेदन किए जा सकेंगे।

किसानो के लिए आयी बड़ी खुशखबरी अब सब के खाते में आएंगे 2-2 हज़ार रूपये

इसके अलावा, इस प्रक्रिया से भीड़भाड़ को कम करके किसानों के बैंकों में खर्च होने वाले समय और प्रयास में कमी आएगी। किसानों को भूमि दस्तावेज सत्यापन के लिए बैंक जाने की जरूरत नहीं है।

सरकार ने हाल ही में कृषि ऋण पर यह घोषणा की।

नरेंद्र मोदी के नेतृत्व वाली केंद्र सरकार के अनुसार, 3 लाख रुपये तक के कृषि ऋण पर 17 अगस्त 2022 को 1.5 प्रतिशत ब्याज सब्सिडी मिलेगी। पीएम मोदी की अध्यक्षता में हुई कैबिनेट की बैठक में यह फैसला बैंकों को बढ़ती ब्याज दरों के समय में किसानों को सस्ते कर्ज की लागत वहन करने में मदद करने के लिए लिया गया।

PM Kisan 2022: इस तारीख को आएंगे 12 वीं किस्त के बचे हुए रूपये, कृषि मंत्री ने किया बड़ा ऐलान

सिर्फ ब्याज देना होगा

इस योजना के तहत कृषि और पशुपालन, डेयरी, मुर्गी पालन, मत्स्य पालन और अन्य कृषि गतिविधियां 7 प्रतिशत प्रति वर्ष की दर से ऋण के लिए पात्र हैं। इसके अलावा, किसानों को समय पर ऋण चुकाने पर 3% अतिरिक्त सबवेंशन मिलता है। इसलिए, यदि किसान समय पर अपने ऋण का भुगतान करते हैं, तो उन्हें 4% ब्याज मिलता है।

अपने मोबाइल फोन से ऋण के लिए आवेदन कैसे करें

किसान चाहें तो अपने मोबाइल फोन से किसान क्रेडिट कार्ड के लिए घर बैठे ही आवेदन कर सकते हैं। उन्हें अपने आधार जैसे कुछ महत्वपूर्ण दस्तावेज पेश करने होते हैं।

Kisan Credit Card: मछुआरों और पशुपालकों को भी मिलेगा 1 लाख 60 हजार रुपये तक का गारंटी फ्री लोन

इसे करना है

  • सबसे पहले किसानों को इस लिंक https://eseva.csccloud.in/KCC/Default.aspx पर क्लिक करके कृषि एवं किसान कल्याण मंत्रालय की वेबसाइट पर जाना होगा।
  • उसके बाद आपको “Apply New KCC” पर क्लिक करना होगा।
  • इसके बाद आपसे सीएससी आईडी और पासवर्ड मांगा जाएगा। सही आईडी और पासवर्ड डालने के बाद आप “Apply New KCC” पर क्लिक कर सकते हैं।
  • इसके बाद आपको अपना आधार नंबर भरना होगा। लेकिन इस दौरान यह ध्यान रखना होगा कि जिस किसान का नाम किसान सम्मान निधि योजना से जुड़ा है उसका आधार नंबर ही यहां मान्य होगा।
  • सही आधार नंबर डालने के बाद PM Kisan Financial Detail का फॉर्म खुल जाएगा। इसके बाद आपको “इश्यू ऑफ फ्रेश केसीसी” पर क्लिक करना होगा। अब बारी है लाभार्थी की लोन राशि और मोबाइल नंबर भरने की। साथ ही आपको अपने गांव का नाम और खसरा नंबर भरना होगा। सभी विवरण भरने के बाद आप “विवरण सबमिट करें” पर क्लिक करेंगे। इसके बाद एक नया पेज खुलेगा जिसमें आपको भुगतान करना होगा। इसे सीएससी आईडी के बैलेंस से जमा करना होगा। इस तरह आपका किसान क्रेडिट कार्ड तैयार हो जाएगा।

अब घर बैठे मोबाइल से मिलेगा किसान क्रेडिट कार्ड, नहीं काटने पड़ेंगे बैंको के चक्कर, मिलेंगी ये सुविधाएं

किसान क्रेडिट कार्ड धारक को दिए जाने वाले ऋण की सीमा और नियम

अब किसानों के लिए केसीसी, किसान क्रेडिट कार्ड प्राप्त करना बहुत आसान हो गया है। पीएम किसान योजना पहले ही लाखों किसानों को केसीसी कार्ड प्रदान कर चुकी है। इस कार्ड से किसानों को 3 लाख तक का कर्ज आसानी से मिल सकता है, जिससे उन्हें खेती में काफी मदद मिलती है।

अब PM Kisan Samman Nidhi Yojana के तहत पति पत्नी दोनों को मिल सकता है 6 हजार रूपये, जानिए क्या है पूरा नियम

पशुपालन, मत्स्य पालन या कृषि से जुड़े किसानों के लिए, केंद्र सरकार ने किसान क्रेडिट कार्ड योजना लागू की है, जिससे उन्हें किसी भी समय बैंक से 3 लाख रुपये तक का ऋण लेने की अनुमति मिलती है। इस लोन पर सरकार सालाना ब्याज दरों में छूट भी देती है।

किसान क्रेडिट कार्ड धारक की मृत्यु के मामले में क्या होगा?

यदि किसी किसान की मृत्यु हो जाती है, तो उसके उत्तराधिकारी की जिम्मेदारी है कि वह समय पर ऋण चुकाए। अगर कोई आवेदक कर्ज नहीं चुका पाता है तो बैंक तीन तरह से कार्रवाई करता है। बैंक कैसे कार्रवाई करता है, आगे बताया गया है-

किसान क्रेडिट कार्ड के ये फायदे जानकर आप भी करेंगे अप्लाई, सिर्फ लगेंगे ये डॉक्युमेंट्स

सिबिल विभाग को सूचित करना

किसी भी ग्राहक को ऋण कैसे दिया जाता है, यह जानने वाला पहला व्यक्ति सिबिल है। CIBIL एक ऐसा विभाग है जो सभी प्रकार के ऋण और क्रेडिट कार्ड रिकॉर्ड का विवरण रखता है।

यदि कोई ग्राहक या आवेदक का वंशज ऋण नहीं चुकाता है, तो उस स्थिति में बैंक पहले इसकी सूचना CIBIL विभाग को देता है और उसके बाद CIBIL विभाग ऋण बनाता और स्थानांतरित करता है। इसके बाद कोई भी बैंक आपको लोन और क्रेडिट कार्ड नहीं देता है।

पशु किसान क्रेडिट कार्ड योजना के तहत गाय भैंस पालने पर सरकार दे रही है 60000 रूपये , ऐसे उठाये योजना का लाभ

निपटान विकल्प देना

बैंक सबसे पहले आपका विवरण में भेजता है

सिबिल रिपोर्ट। बैंक तब उस ग्राहक या उधारकर्ता की मृत्यु होने पर, उसके वंशजों से संपर्क करता है और उन्हें निपटान का विकल्प देता है।

यह सुनिश्चित करना बैंक की नीति है कि ग्राहक समय पर ऋण का भुगतान करता है, ताकि न तो बैंक और न ही ग्राहक इससे अधिक पीड़ित हो और दोनों पक्षों का समय बचाए। जितना संभव हो, बैंक यह सुनिश्चित करता है कि वह अपने ग्राहकों से सही राशि निकाल सके।

Kisan Credit Card New Update 2022: अब बिना गारंटी के मिलेगा 4 लाख तक का लोन, यहां से करे अप्लाई

अगर कोई ग्राहक इसके बाद भी पैसा नहीं देता है तो उस स्थिति में बैंक तीसरा रास्ता अपनाता है. यह तीसरा रास्ता थोड़ा अलग है और इसमें बैंक कानूनी मदद लेता है।

संपत्ति की नीलामी

यदि कोई ग्राहक या उसका वंशज पैसा नहीं चुकाता है, तो उस स्थिति में बैंक कानूनी प्रक्रिया का सहारा लेता है और उस संपत्ति या जमीन की नीलामी करता है जिस पर किसान ने कर्ज लिया है।

1 अक्टूबर से होने वाला है बड़ा बदलाव: क्रेडिट कार्ड और डेबिट कार्ड यूजर्स के लिए आया नया अलर्ट

जैसे ही बैंक नीलामी प्रक्रिया शुरू करता है, संपत्ति की नीलामी की जाती है। उस संपत्ति से जो भी पैसा कमाया जाता है उसे उधारकर्ता द्वारा ऋण में जोड़ा जाता है। अगर बैंक को उसका पैसा नहीं मिलता है तो बैंक संपत्ति की नीलामी के बाद अन्य संपत्ति या सोने या आभूषण जैसी अन्य वस्तुओं की नीलामी भी करता है।

किसान क्रेडिट कार्ड क्या है?

आपको जानकर अच्छा लगेगा कि किसान क्रेडिट कार्ड पर 3 लाख रुपये तक के लोन पर ब्याज दर सिर्फ 4 फीसदी के आसपास ही है. यह बैंक द्वारा दिया गया क्रेडिट कार्ड है, लेकिन इसके पीछे भारत सरकार की योजना भी काम कर रही है। वहीं अगर आप किसी बैंक से कर्ज लेते हैं तो ब्याज दर सिर्फ 14 से 16 फीसदी ही हो सकती है।

सिर्फ खरीदारी के लिए इस्तेमाल करते है क्रेडिट कार्ड तो हो जाएं सावधान, इन 5 स्मार्ट तरीकों से कर सकते ढेरों काम

केसीसी से छोटे किसानों को मिल रहा लाभ

इस योजना से किसानों को फायदा होता है कि सरकार किसानों को एक तरह से आर्थिक मदद देती है। इस योजना के तहत, पीएम किसान योजना में भाग लेने वाले किसान 3 लाख रुपये तक की सीमा के साथ क्रेडिट कार्ड प्राप्त करने के पात्र होंगे।

किसान क्रेडिट कार्ड लोन की मदद से कोई भी व्यक्ति बीज, खाद आदि जैसी चीजें खरीद सकता है। इसके बाद यह राशि समय पर बैंक को लौटानी होती है।

किसानो के लिए लॉन्च हुआ किसान क्रेडिट क्रेडिट कार्ड, बेहद सस्ते लोन के साथ मिलेंगी इतनी सुविधाएं, आज ही करे अप्लाई

Best Dining Credit Cards in India: खाने पीने के हैं शौकीन? तो ये डाइनिंग क्रेडिट कार्ड करें इस्तेमाल

Kiran Yadav

Hey, My Name is Kiran. I'm the Owner of this Website. I'm in Banking Sector in Last 5 years . And I have 5 Years of experience in Loan, Finance, Insurance, Credit Card & LIC....

Leave a Reply